Breaking

Saturday, 16 June 2018

Email और Gmail में क्या अंतर है ? | What is the difference between email and Gmail ?


ईमेल और जीमेल में क्या अंतर है ?

बहुत से लोगों के मन में ये सवाल होता है की ईमेल और जीमेल में क्या अंतर है ? यहाँ तक की कुछ लोगो तो ये भी सोचते है की ईमेल भी जीमेल की तरह एक अलग सर्विस है लेकिन ऐसा नहीं है। ईमेल और जीमेल में क्या अंतर है ये समझने के लिए सबसे पहले आपको इन दोनों को अच्छे से समझना होगा। 

ईमेल क्या होता है ?

ईमेल का पूरा नाम "इलेक्ट्रॉनिक मेल" है। ( Email Full Form - Electronic Mail ) ईमेल जानकारी और सुचना आदान प्रदान करने की एक प्रक्रिया है। जिस तरह से है चिट्ठी लिख कर किसी संदेश या समाचार को एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुंचते है उसी तरह ईमेल से किसी संदेश या समाचार को इंटरनेट के माध्यम से एक स्थान से दूसरे स्थान पर पहुंचाया जाता है। एक लाइन में कहूँ तो इंटरनेट पर जिस चिट्ठी से किसी संदेश या समाचार को एक स्थान से दूसरे स्थान पर पहुंचाया जाता है उसे ही ईमेल कहते है। 

जीमेल क्या होता है ?

जीमेल का पूरा नाम "गूगल मेल" है। ( Gmail Full Form - Google Mail ) जिस तरह से हम चिट्ठी को एक स्थान से दूसरे स्थान पर भेजने के लिए पोस्ट ऑफिस का इस्तमाल करते है। उसी तरह से इंटरनेट पर ईमेल को एक स्थान से दूसरे स्थान पर भेजने के लिए किसी ईमेल सर्विस का इस्तमाल करते है और जीमेल एक ईमेल सर्विस है जो इंटरनेट पर पोस्ट ऑफिस की तरह काम करती है ईमेल को एक स्थान से दूसरे स्थान पर भेजने के लिए और ये गूगल की एक सर्विस है। इंटरनेट पर ईमेल सर्विस प्रदान करने के लिए जीमेल ही एक सर्विस नहीं है इसके अलावा भी और बहुत से सर्विस है जैसे की - याहूमेल, हॉटमेल, रेडिफमेल आदि और भी बहुत सारी ईमेल सर्विस जो इंटरनेट पर ईमेल सर्विस प्रदान करती है।

ईमेल और जीमेल में क्या अंतर है ?

जो अंदर एक चिट्ठी और एक पोस्ट ऑफिस में होता है वही अंतर ईमेल और जीमेल में होता है। ईमेल वो होता है जिसमे हम कोई संदेश या समाचार लिखते है और जीमेल वो है जिसके माध्यम से है उस संदेश या समाचार को एक स्थान से दूसरे स्थान तक बहुचाते है। 

मैं आशा करता हूँ की आपको पता चल गया होगा की ईमेल और जीमेल में क्या अंतर है। यदि फिर भी आपके कोई सवाल या सुझाव है तो हमें निचे कमेंट कर के जरूर बताये और यदि जानकारी पसंद आई हो तो इसे लाइक और शेयर करना ना भूले। धन्यवाद। 

6 comments: